पेजमेकर क्या है और इसे कैसे use करते है | How to use Adobe Pagemaker


पेजमेकर

डेक्सटॉप पब्लीकेशन का मतलब होता है, आप एक टेबल पर संपुर्ण पब्लीकेशन या छपाई का काम कर सकते है। कम्प्युटर के आने के पहले प्रिन्टीगं या पब्लीकेशन यह बहुत मुश्कील तथा थका देने वाला काम था। 



यदि आपको एक साधारण लेटर पॅड कुछ सरल चित्रो के साथ देने वाला काम था। यदि आपको  एक साधारण लेटर पॅड कुछ सरल चित्रो के साथ भी उस सुधार भी बनाना है, तो इस के लिए बहुत वक्त तथा कुशल कारागिर की जरूरत होती थी।







 फिर भी उस सुधार के लिए बहुत कम संभावनांये थी। लेकिन आप कम्प्युटर की साहयता से बहुत सुदंर तथा कलात्मक काम कम समय बपासकते है। आपने शादी की पत्रिकाये, परिचय पत्रया लेटर पैड देखे होगे जो डी०टी०पी० पॅकेज की साहयता से बनाये जाते है।डी टी पी पॅकेज मे बनाये हुए कामों मे आसानी से बदलाव कर सकते है।

पेजमेकर क्या है और इसे कैसे नेम करते है द्य भ्वू जव नेम ।कवइम च्ंहमउांमत 





 आप लेटर पॅड का आकार ,उनके अंदर प्रयोग किए कामों मे आसानी से बदलाव कर सकते है। आप लेटर पॅड का आकार ,उनके अंदर प्रयोग किए हुए शब्दों का प्रकार आसानी से बदल सकते है। मुलतः पॅकेज यह छपाई के काम मे प्रयोग मे आते है।



 यदि आपको कोई पाम्पलेट छापना हो तो,प्रथम कम्प्युटर मे उसकी डिजाइन बनानी होगी, उसके बाद लेजर प्रिन्टींग मशीन पर लगाकर प्रिन्टींग लिये जाते है। पेजमेकर यह पॅकेज मुख्यतः साधारण तथा सरल डिजाइन बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है। ऑपरेटर की जरूरत न्युज पेपर एजन्सी, विज्ञापन एजन्सी, प्रिन्टींग प्रेस मे होती है।





1पेज लेआउट के पॅकेज - यह अनुप्रयोग सामा्र्र्र्र्रनयतःपेज ले आउट बनाने के लिये इस्तमाल होता है। जैसे की किताब की डिजाइन, पत्रिकायें परिवय पत्र इत्यादि। इसमे रंग संयोजन की भी सुविधायें होती है। इस प्रकार के पैकेज के उदाहरण पेजमेकर, एम एस पब्लीशर इत्यादि है।





2 ग्राफिक डिजाइन के पॅकेज -इन पॅकेजो मे जटिल तथा कलात्मक डिजाइन बना सकते। जैसे की किसी किताब का कवर पेज, लोगो इस प्रकार के पैकेज के उदाहरण कोरलड्रा,अडॉब इलास्टेटर, इत्यादि है।





3फोटो एडीटींग पॅकेज- यह पॅकेज समान्यता इन पॅकेजो मे काम करने के लिये ज्यादा मेमोरी की जरूरत होती है। इस प्रकार के पैकेजो के उदाहरण अडोब फोटोशॉप, कोरल फोटो पेंट इत्यादि है।





पेजमेकर यह विश्व में सबसे अधिक प्रयोग होने वाला पॅकेज है। इसमे बड़ा डाटा भी आसानी से संयोजित कर सकते है। इसके अतिरिक्त ग्राफिक्स की पत्रिका, एक संपुर्ण सम्पुर्ण किताब या कलात्मक पाम्पलेट आसानी से बना सकते है। पेजमेकर मे बनी हुई फाइल का आकार भी दुसरे ग्राफिक्स की पत्रिका ,एक संपुर्ण किताब या कलात्मक पाम्पलेट आसानी से बना सकते है।



 यह पॅकेज मॅकन्टोस तथा आय बी एम दोनों प्रकार के कॅम्प्युटर पर चलता है। यह पैकेज के के टुल बहुत अर्थपुर्ण तथा आसाना है। एक साधारण स्कुली छात्र भी इस पॅकेज मे काम कर अच्छे डिजाइन बना सकते है। 



पेजमेकर मे बनी हुई फाइल का आकार भी दुसरे ग्राफिक पॅकेज की डिजाइन बना सकते है। पेजमेकर मे बनी हुई फाइल का आकार भी दुसरे ग्राफिक्स पेकेज की की तुलना मे बहुत कम होता है। 



जिससे आप अपनी डिजाइन एक फलोपी भी ले सकते है। यह पेकेज एडोब कंपनी ने बनाया है। हम इस किताब मे 7संस्करण विस्तार से देखेगे जो पेजमेकर का आधुनीतम संस्करण है। असमे बहुत सारी सुविधाये है,जो पुराने संस्करण मे नही थी जैसे आप इसमे 256 मास्टर पेज बना सकते है।



 इसमे फोटोशॉप फाइल के विविध गुण प्रयोग कर सकते है। आप फइल एचटीमल फॅारमेट मे बना सकते हैं इसमे, जिसे सिधे इन्टरनेट पर डाल सकते है। इत्यादि ।

https://4.bp.blogspot.com/-aJVC5bXSiqs/W-RQZpTfH0I/AAAAAAAAAHk/lWUS2iWGtH0XA2cdR3pt5iZXzAGkrEucACLcBGAs/s320/pagemaker.jpg


पेजमेकर क्या है और इसे कैसे नेम करते है द्य भ्वू जव नेम ।कवइम च्ंहमउांमत 

कुछ महत्वपुर्ण शब्दावली जो पेजमेकर मे प्रयोग होती है।





1 पब्लीकेशन -जो फाइल पेज मेकर मे बनाई जाती है,उसे पब्लीकेशन कहते है। चाहे वह फाइल एक पेज की हो या बहुत सारे पेज की सम्पुर्ण किताब हो। पेज मेकर मे जो फाइल बनती है उसका एक्सटेन्शन डॉट पीएमडी रहता है।



2 क्लिक- का मतलब होता है,एक बार बायां क्लिक ,इसमे दो क्लिक या दांये क्लिक से दुसरी क्रियाये होती है।



3 लेआउट- पेज का वह हिस्सा है, जो प्रिन्ट होता है उसे लेआउट कहा जाता है।

पेजमेकर को चालु करने के लिए निम्नलिखित विधि का प्रयोग करे :-

-



No comments: