47 मैचों में 55 गोल करने वाले लेवॉनडोस्की फीफा प्लेयर फॉर 2020 चुने गए, मैसी-रोनाल्डो पिछड़े

बेयर्न म्युनिक के रॉबर्ट लेवॉनडोस्की को फीफा ने 2020 का बेस्ट फुटबॉलर (FIFA Player for 2020) घोषित किया है। पिछले साल के विनर लियोनल मैसी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो को पछाड़कर पोलेंड के इस स्ट्राइकर ने यह अवॉर्ड जीता। 32 साल के लेवॉनडोस्की ने पिछले सीजन के 47 मैच में 55 गोल किए हैं।

मैनचेस्टर सिटी की डिफेंडर लूसी ब्रोंजे को बेस्ट वुमन फुटबॉलर ऑफ द इयर घोषित किया गया। विनर्स का ऐलान नेशनल टीम्स कैपटन्स और कोच के नॉमिनेशन्स के आधार पर किया गया। इसके अलावा 200 मीडिया रिप्रेजेंटेटिव्स ने फैन्स के ऑनलाइन बैलट्स को भी इस चुनाव का आधार बनाया।

पहली बार अवॉर्ड जाती
लेवॉनडोस्की ने पहली बार फीफा का यह अवॉर्ड जीता है। वे इंटरनेशनल सर्किट में करीब सात साल से मौजूद हैं। बॉर्सिलोना के फॉरवर्ड मैसी और जुवेंटस के रोनाल्डो भी इस दौड़ में लेवॉनडोस्की को कड़ी टक्कर दे रहे थे। बेयर्न के लिए उन्होंने पिछले 14 मैच में ही 16 गोल किए हैं।

अवॉर्ड के ऐलान के बाद इस फुटबॉलर ने कहा- अगर आपका मुकाबला मैसी और रोनाल्डो जैसे महान प्लेयर्स से हो और फिर भी आप इस अवॉर्ड के हकदार बन जाएं तो वास्तव में यकीन करना मुश्किल हो जाता है। मैं ही जानता हूं कि यह सम्मान मेरे लिए कितना बेशकीमती साबित होगा।

बहुत वक्त लगा यहां तक पहुंचने में
एक सवाल के जवाब में लेवॉनडोस्की ने कहा- बहुत पहले मैं इस तरह के अवॉर्ड्स या बातों के बारे में सिर्फ सोचा करता था। आज यह मुझे मिला है तो यकीन करना मुश्किल हैं। यह मेरे लिए बहुत मायने रखता है। इस वक्त यह अहमियत नहीं रह जाती कि आप कहां से आते हैं। मायने सिर्फ यह रखता है कि आपने क्या कर दिखाया है।

क्लॉप फिर बेस्ट कोच
लिवरपूल के जर्गेन क्लॉप फिर बेस्ट कोच चुने गए। उन्होंने अपनी टीम को पहली बार प्रीमियर लीग टाइटिल जिताया। यह लगातार दूसरी बार है जब क्लॉप को इस अवॉर्ड यानी बेस्ट कोच के लिए सम्मान मिला। इसके पहले 2019 में उन्हें यह अवॉर्ड मिला था। अवॉर्ड मिलने के बाद क्लॉप ने कहा- मैं तो हैरान हूं।

बेस्ट गोलकीपर
बेयर्न म्यूनिक के मेनुएल नियुर को बेस्ट गोलकीपर चुना गया। उन्होंने एटलेटिको मैड्रिड के जेन ओब्लैक को पीछे छोड़ दिया। नियुर बुंदेसलीगा के 33 मैच में सिर्फ 31 गोल खाए।

बेस्ट गोल अवॉर्ड
टॉटेनहेम के फॉरवर्ड सोन ह्यूंग मिन को बेस्ट गोल के लिए पुकास अवॉर्ड से नवाजा गया है। उन्होंने पिछले साल बर्नेले के खिलाफ बेस्ट सोलो (अकेले) गोल किया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
लेवॉनडोस्की ने पहली बार फीफा का यह अवॉर्ड जीता है। वे इंटरनेशनल सर्किट में करीब सात साल से मौजूद हैं। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3al2ll1
https://ift.tt/2K5zs1B

No comments: