पहली पारी में लीड मिलने के बावजूद पिछड़ी टीम इंडिया, 88 साल बाद टेस्ट इतिहास का सबसे छोटा स्कोर बनाया

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में खेले जा रहे डे-नाइट टेस्ट की दूसरी पारी में भारत ने 9 विकेट पर 36 रन बनाए। आखिर में मोहम्मद शमी चोटिल होकर रिटायर हुए। भारत की पारी इसी के साथ समाप्त हो गई। ये भारत के टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे छोटा स्कोर है। इससे पहले भारतीय टीम का टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम स्कोर 42 रन का रहा है। जो उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ लॉ‌र्ड्स में 1974 में बनाए थे। उस वक्त भारतीय टीम 17 ओवर में ऑल आउट हो गई थी।

यह टेस्ट इतिहास का चौथा न्यूनतम स्कोर भी है। 88 साल पहले 1932 में साउथ अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में 36 रन बनाए थे।

भारतीय टीम को पहली पारी में 53 रन की लीड मिली थी। दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाजों ने निराश किया। दूसरी पारी में कप्तान विराट कोहली (4) समेत कोई भी बल्लेबाज 10 रन नहीं बना सका। चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे और रविचंद्रन अश्विन खाता भी नहीं खोल सके। ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने सबसे ज्यादा 5 और पैट कमिंस ने 4 विकेट लिए।

टेस्ट में भारत के 6 लोएस्ट टोटल (पारी में)

लोएस्ट टोटल खिलाफ ओवर ग्राउंड साल
36/9* ऑस्ट्रेलिया 21.2 एडिलेड 19 दिसंबर, 2020
42 इंग्लैंड 17 लॉ‌र्ड्स 20 जून, 1974
58 ऑस्ट्रेलिया 21.3 ब्रिस्बेन 28 नवंबर, 1947
58 इंग्लैंड 21.4 मैनचेस्टर 17 जुलाई, 1952
66 साउथ अफ्रीका 34.1 डरबन 26 दिसंबर, 1996
67 ऑस्ट्रेलिया 24.2 मेलबर्न 6 फरवरी, 1948

ओवरऑल चौथा लोएस्ट स्कोर

भारत का यह ओवरऑल चौथा लोएस्ट टोटल है। टेस्ट क्रिकेट में सबसे लोएस्ट टोटल का रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम है। उन्होंने 1955 में इंग्लैंड के खिलाफ ऑकलैंड में 26 रन बनाए थे। न्यूजीलैंड की टीम 27 ओवर में सिमट गई थी। इसके बाद साउथ अफ्रीका ने 1896 में इंग्लैंड के खिलाफ 30 रन बनाए थे। जो कि टेस्ट क्रिकेट में दूसरा सबसे कम स्कोर है।

लोएस्ट टोटल ओवरऑल :

लोएस्ट टोटल टीम खिलाफ ओवर ग्राउंड साल
26 न्यूजीलैंड इंग्लैंड 27 ऑकलैंड 1955
30 साउथ अफ्रीका इंग्लैंड 18.4 पोर्ट एलिजाबेथ 1896
30 साउथ अफ्रीका इंग्लैंड 12.3 बर्मिंघम 1924
35 साउथ अफ्रीका इंग्लैंड 22.4 केप टाउन 1899
36 साउथ अफ्रीका ऑस्ट्रेलिया 23.2 मेलबर्न 1932
36 ऑस्ट्रेलिया इंग्लैंड 23 बर्मिंघम 1902
36/9 भारत ऑस्ट्रेलिया 21.2 एडिलेड 2020

भारत ने तोड़ा 96 साल पुराना एक अनचाहा रिकॉर्ड

96 साल पहले 14 जून, 1924 को साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच हुए टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीकी टीम पहली पारी में 30 रन ही बना पाई थी। मैच में उसका कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू सका था।

शनिवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरी पारी में भारत ने यह कारनामा किया। शनिवार को आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के सामने भारत का कोई भी बल्लेबाज दूसरी पारी में दहाई का आंकड़ा नहीं छू सका। टीम के हाईएस्ट स्कोरर मयंक अग्रवाल रहे। उन्होंने 9 रन बनाए।

साउथ अफ्रीका के लिए उस पारी में कप्तान हार्बी टेलर ने सबसे ज्यादा 7 रन बनाए थे। जबकि 4 बल्लेबाज शून्य पर आउट हुए थे। भारत की तरफ से तीन बल्लेबाज शून्य पर आउट हुए।

मयंक सबसे तेज हजार बनाने वाले तीसरे भारतीय

मयंक अग्रवाल टेस्ट क्रिकेट में तीसरे सबसे तेज 1000 रन पूरे करने वाले भारतीय बल्लेबाज बने। उन्होंने दूसरे पारी में 9 रन बनाए और टीम इंडिया के लिए हाईएस्ट स्कोरर रहे। मयंक ने 12वें मैच की 19वीं इनिंग्स में यह उपलब्धि हासिल की। मिशेल स्टार्क की गेंद पर चौका मार उन्होंने टेस्ट में अपने 1000 रन पूरे किए। उनसे आगे विनोद कांबली और चेतेश्वर पुजारा हैं। कांबली ने 14 पारियों में ही एक हजार रन पूरे किए थे। पुजारा ने 18 पारियों में 1000 रन बनाए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Lowest innings total in test cricket india vs australia day night test pink ball test


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3akHazw
https://ift.tt/38gkVYR

No comments: